सरकार ने कोरोना के दौरान हुए अनाथ बच्चों के लिए पीएम केयर्स फण्ड के अंतर्गत 10 लाख रुपये, मुफ्त शिक्षा की घोषणा की

Share The News

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार, 29 मई 2021 को कोविड -19 महामारी में अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों का समर्थन करने के लिए पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन के तहत कई लाभों की घोषणा की ।

बच्चों पर महामारी के प्रभाव और इसे कैसे कम किया जाए, इस पर विचार-विमर्श करने के लिए प्रधान मंत्री की अध्यक्षता में एक उच्च-स्तरीय समीक्षा बैठक के बाद निर्णय लिया ।

पीएम केयर्स (PM Cares) 18 वर्ष की आयु तक पहुंचने वाले प्रत्येक बच्चे के लिए 10 लाख रुपये का कोष बनाने के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन की गई योजना के माध्यम से योगदान देगा । उच्च शिक्षा की अवधि के दौरान बच्चे की व्यक्तिगत आवश्यकताओं की देखभाल के लिए 18-23 वर्ष की आयु से मासिक वजीफा देने के लिए इस कोष का उपयोग किया जाएगा । 23 वर्ष की आयु तक पहुंचने पर, बच्चे को व्यक्तिगत और व्यावसायिक उपयोग के लिए एक मुस्त राशि मिलेगी । सरकार ऐसे बच्चों की मुफ्त शिक्षा भी सुनिश्चित करेगी ।

पीएम मोदी ने राहत की घोषणा करते हुए कहा, “बच्चे देश के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं और हम बच्चों के समर्थन और सुरक्षा के लिए सब कुछ करेंगे । एक समाज के रूप में, यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने बच्चों की देखभाल करें और उज्ज्वल भविष्य की आशा करें ।”

बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में सहायता मिलेगी और पीएम केयर्स इस पर ब्याज का भुगतान करेगा । आयुष्मान भारत के तहत 18 साल तक के सभी बच्चों को 5 लाख रुपये के मुफ्त स्वास्थ्य बीमा के लिए नामांकित किया जाएगा और योजना के तहत प्रीमियम का भुगतान किया जाएगा ।

पीएम ने कहा कि जिन उपायों की घोषणा की जा रही है, वे पीएम केयर्स फंड में उदार योगदान के कारण ही संभव हो पाए हैं, जो कोविड के खिलाफ भारत की लड़ाई का समर्थन करेगा ।

10 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए स्कूल शिक्षा

  • बच्चे को नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में डे स्कॉलर के रूप में प्रवेश दिया जाएगा ।
  • अगर बच्चे का दाखिला किसी निजी स्कूल में होता है तो पीएम केयर्स से आरटीई (Right To Education) के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी ।
  • पीएम केयर्स वर्दी, पाठ्य पुस्तकों और नोटबुक पर खर्च का भुगतान भी करेगा ।

11-18 वर्ष के बीच के बच्चों के लिए विद्यालयी शिक्षा

  • बच्चे को केंद्र सरकार के किसी भी आवासीय विद्यालय जैसे सैनिक स्कूल, नवोदय विद्यालय आदि में प्रवेश दिया जाएगा ।
  • यदि बच्चे को अभिभावक / दादा-दादी / विस्तारित परिवार की देख-रेख में जारी रखा जाना है, तो उसे निकटतम केन्द्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में स्कॉलर के रूप में प्रवेश दिया जाएगा ।
  • अगर बच्चे का दाखिला किसी निजी स्कूल में होता है तो पीएम केयर्स से आरटीई के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी ।
  • पीएम केयर्स वर्दी, पाठ्य पुस्तकों और नोटबुक पर खर्च का भुगतान भी करेगा ।

उच्च शिक्षा के लिए समर्थन

  • मौजूदा शिक्षा ऋण मानदंडों के अनुसार भारत में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों/उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में बच्चे की सहायता की जाएगी । इस ऋण पर ब्याज का भुगतान पीएम केयर्स द्वारा किया जाएगा ।
  • विकल्प के रूप में ऐसे बच्चों को केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं के तहत स्नातक/व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए शिक्षण शुल्क/पाठ्यक्रम शुल्क के बराबर छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। जो बच्चे मौजूदा छात्रवृत्ति योजनाओं के तहत पात्र नहीं हैं, उनके लिए पीएम केयर्स समकक्ष छात्रवृत्ति प्रदान करेगा।

विशेष रूप से बच्चों के लिए एक पीएम केयर योजना स्थापित करने का कदम कई राज्य सरकारों द्वारा महामारी के दौरान माता-पिता को खोने वाले नाबालिगों के लिए राहत पैकेज की घोषणा के बाद आया है । उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, केरल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने पहले ही ऐसे बच्चों को वित्तीय सहायता और अन्य लाभ देने के प्रावधान किए हैं ।

प्रेस नोट पढ़ें : https://pib.gov.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1722719

5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Piyush Pandey
1 year ago

PM is really doing a great work. So Great

error: Content is protected !!